Sunday, June 29, 2008

प्यास

धरती प्यासी
गगन है प्यासा
प्यासे हैं इस जग के लोग
अपनी अपनी प्यास लिए सब
करते हैं जीवन का भोग
कोई प्यासा कुंदन का है
कोई प्यासा चंदन का
कोई प्यासा शक्ति का है
कोई प्यासा भक्ति का
कलियों को है प्यास किरण की
चकोर चाँद का प्यासा है
भवरें को है प्यास कुसुम की
चातक स्वाति का प्यासा है
प्रेम के प्यासे रीत गए हैं
काम के प्यासे हैं सबलोग
श्रद्धा की नदी सूख गई है
इर्ष्या करती अपना भोग
कोई पीता घूँट घूँट कर
कोई निगलना चाहता है
घूँट घूँटकर निगल निगलकर
पीते हैं पर प्यासे लोग

1 comment:

VBS said...

aisa prateet hota hai ki aapne samaaj ke upar bhi gehen chintan evam manan kiya hai. achi kavita hai. main aur kavitayen padhna chahta hoon. kripiya aap apne kaarya update karte rahen.


aapka shubhchintak.